बायतु विधानसभा का रोचक तथ्य: एक बार विधायक बनने के बाद दूसरी बार नहीं जीत पाते नेता

Prakash Choudhary
1 Min Read

बायतु विधानसभा का रोचक तथ्य: एक बार विधायक बनने के बाद दूसरी बार नहीं जीत पाते नेता

राजस्थान के बाड़मेर के अंतर्गत आने वाली बायतु विधानसभा सीट बाड़मेर की सबसे रोचक सीटों में से एक है क्योंकि बायतु विधानसभा सीट के बारे में कहा जाता है कि यहां से जो भी एक बार विधायक बन गया वह दूसरी बार नहीं जीत पाता।

2008 के विधानसभा चुनाव में यहां से विधायक बने कर्नल सोनाराम चौधरी 2013 में यहां से विधायकी की हार गए, 2013 में यहां से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी कैलाश चौधरी चुनाव लड़े लेकिन 2018 के विधानसभा चुनाव में कैलाश चौधरी की चुनाव हार गए।

लेकिन दूसरी बात यह भी है कि 2013 के विधानसभा चुनाव में बायतु विधानसभा सीट से चुनाव हारने के बाद सांसद बने तो 2018 में बायतु से चुनाव हारने के बाद कैलाश चौधरी सांसद बने।

यह भी पढ़ें बायतु विधानसभा क्षेत्र का इतिहास , Baytu MLA

लेकिन इस बार 2018 में विधायक बने हरीश चौधरी क्या इस कहावत को तोड़ पाएंगे यह देखने वाली बात होगी, क्योंकि बायतु विधानसभा सीट से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के उम्मेदाराम बेनीवाल हरीश चौधरी को कड़ी टक्कर दे रहे हैं।

.

Share This Article
Avatar of prakash choudhary
By Prakash Choudhary Editor In Chief
आस पड़ोस की कहासुनी , राजनीति की सीधी व उटपटांग बातें , शिक्षा जगत की खबरें । #PrakashChoudhary नया लेखक लेकिन कुछ पुराने रीति रिवाजों का जानकार 😊
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha