सात बेटियों के मां-बाप और इकलौते भाई की हादसे में मौत , लोगों ने मदद के लिए दो करोड़ से भी ज्यादा रुपए जुटाए

News Bureau
3 Min Read

सात बेटियों के मां-बाप और इकलौते भाई की हादसे में मौत , लोगों ने मदद के लिए दो करोड़ से भी ज्यादा रुपए जुटाए

राजस्थान के बाड़मेर जिले की गुडामालानी पंचायत समिति के मालपुरा के रहने वाले खेताराम भील एवं उनकी पत्नी कानू देवी अपनी बड़ी बेटी की सगाई के लिए रविवार को सिणधरी जा रहे थे, खेताराम उनकी पत्नी एवं उनका इकलौता बेटा जब बस से उतर कर पैदल रवाना हुए तभी एक बोलेरो गाड़ी ने वहां पर चल रहे 6 राहगीरों को कुचल दिया , जिसमें 3 लोगों की मौत हो गई । इनमें खेताराम एवं उनकी पत्नी कानू देवी भी शामिल है । खेताराम के इकलौते पुत्र जसराज सिर पर गंभीर चोट आई , 5 दिन के इलाज के बाद शुक्रवार को जसराज ने भी दम तोड़ दिया ।

यह भी पढ़ें श्रद्धा मर्डर मामला : रात 2 बजे आफताब जंगलों में फेंका था अंग

समाज आया आगे

एसीपी सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें खेताराम की 7 बेटियां टूटे-फूटे कच्चे घर में रोती बिलखती नजर आ रही थी , लेकिन इसके बाद सोशल मीडिया पर समाज सेवक कौन है यह मुहिम चलाते हुए बड़ी बेटी के अकाउंट नंबर एवं उनके यूपीआई आईडी को आगे से आगे सोशल मीडिया पर शेयर किया एवं सहयोग करने की अपील की।

इस मुहिम के शुरू करने के बाद मात्र 50 घंटे में दो करोड़ रुपए जुटा दिए , मंगलवार शाम को लोगों ने राशि जुटाने की मुहिम शुरू की थी एवं औसतन हर घंटे ₹3 लाख जमा हो रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक 17 तारीख को रात 11:00 बजे तक 2 करोड से भी ज्यादा रुपए बड़ी बेटी के अकाउंट में लोगों द्वारा मदद के लिए भेज दिए गए।

शुक्रवार को जसराज की भी मौत

एक्सीडेंट के 5 दिन बाद शुक्रवार को गंभीर घायल एवं सात बहनों का इकलौता भाई जसराज भी दुनिया को अलविदा कह गया । खेताराम की आठ संतानों में सबसे छोटा एवं 7 बेटियां जसराज से बड़ी हैं।

जसराज के मौत की खबर सुनकर बाड़मेर के पूरे इलाके में शोक की लहर आ गई।

.

Share This Article
Follow:
News Reporter Team
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha