राजस्थान कांग्रेस की कलह : सचिन पायलट को मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं किया जाएगा : अशोक गहलोत

राजस्थान कांग्रेस की कलह : सचिन पायलट को मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं किया जाएगा : अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक......

- Advertisement -

राजस्थान कांग्रेस की कलह : सचिन पायलट को मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं किया जाएगा : अशोक गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट के मुख्यमंत्री बनने की संभावनाओं पर एक बार फिर विराम लगा दिया है।

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि पिछली बार यानी कि 25 सितंबर को जो सियासी ड्रामा हुआ वह कुछ नहीं था , यानी कि गहलोत आलाकमान को सीधे तौर पर संकेत देना चाहते हैं कि सचिन पायलट को अगर राजस्थान में मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार किया जाएगा तो राजस्थान की सरकार गिर सकती है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट बीजेपी के नेताओं से मिले हुए हैं एवं उन्होंने पिछली बार होटल में ठहर कर बीजेपी के दफ़्तर से 10 – 10 करोड़ रुपए लिए थे।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पाली में एनडीटीवी से बातचीत करते हुए कहा कि राजस्थान में उन्हीं के नेतृत्व में अगली सरकार भी बनेगी। एवं राजस्थान में अगर मुख्यमंत्री बदलने के लिए आलाकमान फैसला करता है तो सचिन पायलट के अलावा किसी भी नेता को राजस्थान की जनता या विधायक स्वीकार कर सकते हैं लेकिन सचिन पायलट को किसी भी स्तर पर राजस्थान की जनता एवं राजस्थान कांग्रेस के विधायक स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं।

यह भी पढ़ें Gujarat election ABP C voter Opinion Poll : गुजरात में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ी , आसान नहीं है गुजरात फतेह

जहां एक तरफ सचिन पायलट भारत छोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी के साथ मिलकर पिक्चर को ट्वीट किया है वहीं दूसरी तरफ सचिन पायलट के मुख्यमंत्री बनने की अटकलों पर मुख्यमंत्री गहलोत ने अब फिर खुलकर बगावत कर दी है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट के साथ मात्र 10 विधायकों हैं एवं 10 विधायकों से राजस्थान में सरकार नहीं बन सकती।

दिसंबर महीना राजस्थान कांग्रेस के लिए , भारत जोड़ो यात्रा के लिए एवं राजस्थान की आगामी सियासत के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण महीना रहने वाला है।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha