अशोक गहलोत बोले मैं रविंद्र सिंह भाटी को नहीं जानता, मेरे ऊपर लगे आरोप निराधार

News Bureau
2 Min Read
राजस्थान फ्री मोबाइल योजना लिस्ट 2023 , Rajasthan free Smart Mobile Yojana list

अशोक गहलोत बोले मैं रविंद्र सिंह भाटी को नहीं जानता, मेरे ऊपर लगे आरोप निराधार

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ऊपर लोकसभा चुनाव के दौरान बाड़मेर लोकसभा सीट से रविंद्र सिंह भाटी का समर्थन करने के आरोप लगे।

पुर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अब एक टीवी इंटरव्यू में रविंद्र सिंह भाटी से मिली भगत होने के आरोप पर सफाई देते हुए कहा कि मैं रविंद्र सिंह भाटी को नहीं जानता हूं, रविंद्र सिंह भाटी से मेरी कभी मुलाकात भी नहीं हुई।

राजस्थान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने कहा कि मैं बाड़मेर में तीन बार कांग्रेस प्रत्याशी उम्मेदाराम बेनीवाल के समर्थन में जनसभा करने गया था, अगर मैं रविंद्र सिंह पार्टी से मिला हुआ होता तो ऐसा नहीं करता।

इस दौरान अशोक गहलोत ने कहा कि हमें राजस्थान में सबसे ज्यादा बाड़मेर लोकसभा सीट पर कांग्रेस की मजबूत स्थिति दिख रही हैं, बाड़मेर लोकसभा सीट को कांग्रेस पार्टी जीत जाएगी।

दो डिजिटल में जीतेंगी कांग्रेस

गहलोत ने दावा किया है कि राजस्थान में कांग्रेस पार्टी कम से कम दो डिजिट के अंकों में लोकसभा सीटें जीतेगी।

गहलोत ने कहा कि हमने बहुत अच्छी योजनाएं लाई लेकिन भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनाव के दौरान झूठ फैलाकर चुनाव जीत गई।

अब पूरा देश सोच रहे की राजस्थान में कांग्रेस कैसे हार गई।

जालौर सिरोही सीट पर कांग्रेस पार्टी की टिकट पर अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत चुनाव लड़ रहे थे, पिछले दिनों सचिन पायलट ने कहा था उन्होंने जनसभा के लिए कहा था लेकिन जनसभा नहीं करवाई गई।

इस पर अशोक गहलोत ने कहा कि चुनाव के दौरान इस तरह के बयान देना बेवकूफी होगा, सचिन पायलट को इस तरीके के बयान नहीं देने चाहिए, ऐसे बयान देने से प्रत्याशी को नुकसान होता है।

.

Share This Article
Follow:
News Reporter Team
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha