राजस्थान में नेताओं के स्वागत का तरीका: जेसीबी पर खड़े होकर स्वागत करना खतरनाक ?

राजस्थान में नेताओं के स्वागत का तरीका: जेसीबी पर खड़े होकर स्वागत करना खतरनाक ? राजस्थान में इसी साल विधानसभा......

- Advertisement -

राजस्थान में नेताओं के स्वागत का तरीका: जेसीबी पर खड़े होकर स्वागत करना खतरनाक ?

राजस्थान में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं विधानसभा चुनाव से पहले नेताओं द्वारा वोटरों को लुभाने का प्रयास शुरू किया जा चुका है लेकिन राजस्थान में इन दिनों नेताओं के स्वागत के लिए एक अजीब तरीका देखने को मिल रहा हैं।

सोशल मीडिया पर हमें सबसे पहला वीडियो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का मिलता है , जिसमें मुख्यमंत्री का स्वागत जेसीबी के लोडर पर बैठे युवा फूल बरसा कर रहे हैं।

राजस्थान में सबसे पहले नागौर के सांसद एवं राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख हनुमान बेनीवाल का रिंया बड़ी में बजरी माफिया के खिलाफ हल्ला बोल में युवाओं द्वारा दर्जनों जेसीबी (Backhoe Loader ) के लोडर पर खड़े होकर पुष्प वर्षा देखने को मिली।

इसके बाद हनुमान बेनीवाल का भीलवाड़ा ‍, अजमेर एवं नोहर में इसी तरीके से स्वागत किया गया ।

हनुमान बेनीवाल के बाड़मेर के धोरीमन्ना में आयोजित कार्यक्रम में जाते समय डोली व बायतु भी इसी तरह से स्वागत करने का कार्यक्रम हैं।

राजस्थान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी का भी चित्तौड़गढ़ में जेसीबी से स्वागत किया गया , कांग्रेस सरकार में मंत्री विश्वेंद्र सिंह का जन्म दिवस के अवसर पर भरतपुर में भी इसी तरीके से स्वागत किया गया।

यह भी पढ़ें Rajasthan Mehngai Rahat Camp 2023 : महंगाई राहत कैंप क्या हैं ? महंगाई राहत कैंप में आवेदन कैसे करें

ये स्वागत कितना खतरनाक ?

पुष्प बरसाने का यह तरीका भले ही लोगों को पसंद आया , लेकिन तरीका इतना ही खतरनाक हैं, जेसीबी के ड्राइवर द्वारा तनिक भी गलती होने की वजह से लोडर में बैठे युवा नीचे खड़े युवाओं पर आ गिरेंगे और ऐसे में उनकी जान भी जा सकती हैं।

अगर लोडर में खड़े व्यक्ति का शारीरिक संतुलन अगर बिगड़ जाता है तो वह व्यक्ति भी नीचे गिर सकता हैं, ऐसे में गिरने वाले व्यक्ति एवं नीचे खड़े लोगों दोनों को चोट पहुंच सकती है या जान भी जा सकती है।

हालांकि पहले से स्वागत की तैयारी कर चुके युवाओं को नेता भी एनवक्त पर स्वागत करवाने से इनकार नहीं कर सकते , क्योंकि उन्हें लगता है ऐसा करने से उनके समर्थक नाराज हो सकते हैं।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha