नीतीश आज नौवीं बार ले सकते हैं शपथ, फिर भाजपा के साथ आ सकते हैं

नीतीश आज नौवीं बार ले सकते हैं शपथ, फिर भाजपा के साथ आ सकते हैं बिहार में महागठबंधन की सरकार......

- Advertisement -

नीतीश आज नौवीं बार ले सकते हैं शपथ, फिर भाजपा के साथ आ सकते हैं 

बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अब फिर सत्ता बदल रही है, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इंडिया से अलग होकर एनडीए में जाने की तैयारी कर रहे हैं।

नीतीश कुमार रविवार को राज्यपाल को इस्तीफा सौंप सकते हैं एवं शाम 4:00 बजे उनके फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने की संभावना है एवं इस दौरान गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल हो सकते हैं।

अगर नीतीश कुमार फिर शपथ लेते हैं तो वह नौवीं बार सीएम पद की शपथ लेंगे एवं ऐसा करने वाले देश के एकमात्र मुख्यमंत्री होंगे।

नीतीश कुमार की नई सरकार में दो डिप्टी सीएम हो सकते हैं एवं विधानसभा अध्यक्ष भी भारतीय जनता पार्टी का हो सकता है।

यह भी पढ़ें भारत में बच्चा नहीं चाहने वाले वाले कपल 30 फीसदी बढ़े, कोविड के बाद तेजी

शनिवार को दिनभर चली सियासी हलचल के बाद अब लगातार सभी राजनीतिक पार्टियों बैठकें कर रही हैं

नीतीश कुमार का राजनीतिक कैरियर

  • 1994 में नीतीश कुमार लालू यादव से अलग हुए और समता पार्टी बनाई।
  • 1996 में भारतीय जनता पार्टी से गठबंधन करके चुनाव लड़े।
  • 2000 में 7 दिन के लिए मुख्यमंत्री बने एवं फिर रेल मंत्री।
  • 2005 में भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर मुख्यमंत्री बने।
  • 2013 में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री उम्मीदवार बनाए जाने पर बीजेपी से अलग हुए।
  • 2014 में सीएम पद से इस्तीफा देकर जीतनराम मांझी को उत्तराधिकारी बनाया।
  • 2015 में मांझी को हटाकर खुद मुख्यमंत्री बने, महागठबंधन बनाया।
  • 2017 में राजद से नाता तोड़ा एवं एनडीए के साथ मिलकर सरकार बनाई।
  • 2022 में एनडीए से अलग होकर महागठबंधन से जुड़े।
  • 2024 में एनडीए के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश कर रहे है।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha