बेनीवाल व मदेरणा परिवार : एक बार फिर आमने-सामने

खींवसर व ओसियां में टेंपरेचर की चर्चा… राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख हनुमान बेनीवाल व ओसियां विधायक दिव्या मदेरणा के......

- Advertisement -

खींवसर व ओसियां में टेंपरेचर की चर्चा…

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख हनुमान बेनीवाल व ओसियां विधायक दिव्या मदेरणा के बीच पंचायती राज चुनावों के बाद से ही खुलकर अदावत हो चुकी है।

20220421 195359

सांसद बेनीवाल इस बार अपनी नजर ओसियां विधानसभा क्षेत्र में गड़ाए हुए हैं , हनुमान बेनीवाल इन दिनों चल रही शादियों के सीजन में कई बार ओसियां विधानसभा पहुंचे , इसके अलावा सांसद बेनीवाल पंचायती राज चुनाव के बाद कई बार ओसियां के सामाजिक कार्यक्रमों में भी पहुंचे थे , इधर दिव्या मदेरणा की भी नजरें खींवसर के विधानसभा चुनावों पर टिकी हुई है , खींवसर में हनुमान बेनीवाल का दबदबा कुछ इस तरह है कि खींवसर विधानसभा का गठन होने के बाद आज तक यहां पर हनुमान बेनीवाल ही चुनाव जीतते आए हैं । बेनीवाल की सांसद बनने के बाद इस विधानसभा सीट पर हनुमान बेनीवाल ने अपने छोटे भाई नारायण बेनीवाल को विधानसभा सदस्य का चुनाव लड़ाया , नारायण बेनीवाल के सामने कांग्रेस से दिव्या मदेरणा के फूफा हरेंद्र मिर्धा ने चुनाव लड़ा था , लेकिन चुनाव हार गए । और इसी के बाद दिव्या मदेरणा की नजर खींवसर पर पड़ गई ।

जिला परिषद सदस्य चुनाव में रालोपा व दिव्या मदेरणा के बीच जमकर जुबानी हमले हुए ।

पिछले दिनों हनुमान बेनीवाल के लगातार ओसियां दौरों के बाद विधायक दिव्या मदेरणा ने भी पांचला सिद्धा का दौरा किया , और मदेरणा ने बेनीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि खींवसर का विकास शुन्य हैं , विधायक मदेरणा ने कहा कि वह खींवसर का राजनीतिक टेंपरेचर भी मापने आई है। इसी के बाद लोगों के बीच खींवसर व ओसियां का राजनीतिक टेंपरेचर चर्चा में आ गया ।

इधर सांसद बेनीवाल ने ओसियां में जनता को संबोधित करते हुए कहा कि उन्होंने 2018 में ओसिया और लोहावट से प्रत्याशी नहीं उतारे थे , उन्होंने अपनों का ध्यान रखा , लेकिन इस बार वे भी चुनाव में प्रत्याशी उतारेंगे ।

राजस्थान में कभी मदेरणा व मिर्धा परिवार का राजनीति में दमखम होता था , मदेरणा परिवार के परसराम मदेरणा एवं मिर्धा परिवार के नाथूराम मिर्धा व परसराम मिर्धा का राजस्थान की राजनीति में महत्वपूर्ण स्थान था । लेकिन नागौर के मिर्धा परिवार को चुनाव हराकर हनुमान बेनीवाल ने अपना वर्चस्व बना दिया , और मदेरणा परिवार से दिव्या मदेरणा अपने परिवार का वर्चस्व संभाल रही है ।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha