दुर्ग और किले में अन्तर | kila or Durgh Me Antar

News Bureau
2 Min Read

दुर्ग और किले में अन्तर | kila or Durgh Me Antar

आमतौर पर हम दुर्ग , किला एवं गढ़ को एक ही समझते हैं लेकिन ऐसा नहीं है, जिस तरह से हम जल एवं पानी को एक समझते हैं लेकिन जल एवं पानी में अंतर होता है ?जल एवं पानी को एक समझते हैं लेकिन जल एवं पानी में अंतर होता है ? ( अगर आप भी जल एवं पानी में अंतर नहीं जानते हैं तो यहां क्लिक करे।)उसी तरह से दुर्ग एवं किला में भी अंतर होता है ? दुर्ग एवं किला के अतिरिक्त गढ़ भी होता है , इस आर्टिकल में हम तीनों की आपसी भिन्नताओं की चर्चा करेंगे।

दुर्ग और किले में अन्तर | kila or Dhurgh Me Antar

किला साधारण होता है जिसमें समुचित व्यवस्था नहीं होती है जबकि दुर्ग उच्च श्रेणी का होता है जिनमें समुचित व्यवस्थाएं होती है। लेकिन गढ़ में किले से बेहतर एवं दुर्ग जितनी सुविधाएं नहीं होती हैं, यानी कि इन दोनों के बीच की श्रेणी को गढ़ कहा जाता है।

किला बनाने का उद्देश्य अक्सर शस्त्रागार या फिर राजा की निवास के लिए बनाया जाता था, जबकि दुर्ग में शस्त्रागार राजा के निवास स्थान इसके अलावा कई अन्य सभी प्रकार की आवासों व रहने खाने की व्यवस्थाएं होती थी।

कई दुर्गो में वर्तमान समय में भी राज परिवार रहते हैं । राजस्थान में चित्तौड़गढ़ में एक ऐसा देश है जहां पर पहले दुर्ग के अंदर खेती होती थी। यानी कि कह सकते हैं दुर्गों का क्षेत्रफल भी बड़ा होता था , जबकि किलो का निर्माण एक घर मजबूत घर या घर से थोड़ा बड़ा स्थल होता था।

यह भी पढ़ें पानी और जल में क्या अंतर है ?

.

Share This Article
Follow:
News Reporter Team
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha