सरदार शहर में उपचुनाव का गणित , कौन होगा सरदारशहर का विधायक

News Bureau
3 Min Read

सरदार शहर में उपचुनाव का गणित , कौन होगा सरदारशहर का विधायक 

राजस्थान के सरदार शहर सीट पर उपचुनाव की घोषणा होने के बाद भारतीय जनता पार्टी , कांग्रेस के साथ ही अन्य दल भी इसके लिए जुट गए हैं ।

बता दें कि यह सीट यहां से विधायक भंवरलाल शर्मा के निधन के बाद खाली हो गई थी , भंवरलाल शर्मा लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे थे।

जानते हैं सरदारशहर के 2018 के विधानसभा चुनाव के परिणाम

सरदारशहर से 2018 में कांग्रेस से भंवर लाल शर्मा ने चुनाव लड़ा और करीब 95000 मत प्राप्त हुए , भारतीय जनता पार्टी से अशोक कुमार ने चुनाव लड़ा और 78000 वोट प्राप्त किए । तीसरे स्थान पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के बलदेव रहे जिन्होंने 10000 वोट प्राप्त किए। एवं चौथे स्थान पर बीएसपी यानी कि बसपा के ओंकार रहे जिन्हें 6700 वोट प्राप्त हुए ।

2018 के विधानसभा चुनाव में सरदारशहर से कुल 14 लोगों ने विधानसभा चुनाव लड़ा था , जिसमें से 4 प्रत्याशियों को 5000 से ज्यादा वोट मिले एवं अन्य सभी प्रत्याशियों को 3550 से कम मत प्राप्त हुए।

यह भी पढ़ें सरदारशहर विधानसभा सीट पर उप चुनाव की घोषणा , 5 दिसंबर को होगा मतदान

2013 के विधानसभा चुनाव में भंवरलाल को 86000 वोट मिले एवं अशोक कुमार को 79000 वोट मिले , 2013 में भी भंवरलाल यहां से जीते थे। 2008 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के अशोक कुमार ने जीत दर्ज की ‌‌।

2018 विधानसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के बीच करीब 16000 वोटों का अंतर रहा था ।

इस बार उपचुनावों में कांग्रेस भंवरलाल शर्मा के पुत्र अनिल शर्मा को चुनाव में उतार सकती है , कांग्रेस ने 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद हमेशा से सहानुभूति के नाम पर निधन होने वाले कांग्रेस विधायकों के परिवार से ही किसी भी सदस्य को चुनाव मैदान में उतारा , और हर बार कांग्रेस को सफलता मिली।

भारतीय जनता पार्टी इस बार यहां से किसको उप चुनाव में उतारेगी , इसके बारे में अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं है। लेकिन राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और बसपा भी यहां से विधानसभा चुनाव लड़ सकती है।

हालांकि यह चुनाव बीजेपी के लिए इतना महत्वपूर्ण नहीं है , क्योंकि अगले 1 साल से आम विधानसभा चुनाव होने हैं।

.

Share This Article
Follow:
News Reporter Team
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha