किसान नेता राकेश टिकैत पर फेंकी स्याही , मीटिंग में एक दूसरे पर फेंकी कुर्सियां

News Bureau
2 Min Read

किसान नेता राकेश टिकैत पर फेंकी स्याही , मीटिंग में एक दूसरे पर फेंकी कुर्सियां

कृषि कानूनों के समय किसान आंदोलन में चर्चा आए भारतीय किसान यूनियन के किसान नेता राकेश टिकैत पर सोमवार को बेंगलुरु के गांधी भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में काली स्याही फेंकी गई।

हालांकि अभी तक स्पष्ट नहीं हुआ है कि काली स्याही फेंकने वाला युवक कौन था ? , और राकेश टिकैत पर काली स्याही फेंकने के पीछे युवक का उद्देश्य क्या था ?

लेकिन राकेश टिकैत के मीटिंग के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं जिसमें राकेश टिकैत के चेहरे पर स्याही फेंकी हुई नजर आ रही है और मीटिंग हॉल में लोग एक दूसरे पर कुर्सियों से वार करते दिखाई दे रहे हैं , प्रथम द्रष्टया वीडियो देखकर लगता है कि स्याही फेंकने वाला व्यक्ति एक नहीं होकर कई लोग स्याही फेंकने के उद्देश्य से मीटिंग में शामिल हुए थे।

वही एक वीडियो में राकेश टिकैत पर स्याही फेंकने के बाद लोगों द्वारा मोदी मोदी के नारे लगाए गये थे।

राकेश टिकैत ने मीडिया से बातचीत करके स्थानीय पुलिस को इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया। और इसमें सरकार का भी हाथ होने का संदेह जताया।

बता दें कि भारतीय किसान यूनियन संगठन भी पिछले दिनों दो गुटों में बंट गई थी , जिसमें से एक गुट राकेश टिकैत पर नाराज था एवं राकेश टिकैत पर खुद के राजनीतिक फायदे के लिए संगठन का इस्तेमाल करने का आरोप लग रहा था ।

ऐसे में संभावना है कि किसान नेताओं के आपसी गुटों में विवाद होने की वजह से नाराज किसान नेताओं द्वारा राकेश टिकैत पर स्याही फेंकी गई हो सकती है । लेकिन अभी तक इसके बारे में कोई भी स्पष्ट जानकारी उपलब्ध नहीं हुई है। राकेश टिकैत जिस कार्यक्रम में शामिल हुए थे , वह कार्यक्रम संगठन का था या अन्य सामाजिक कार्यक्रम था इसके बारे में भी अभी तक कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिली है।

.

TAGGED:
Share This Article
Follow:
News Reporter Team
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha