ग्राम सेवक भर्ती पेपर आउट , VDO Paper Leak

पेपर देने से पहले ₹15 लाख लिए थे एडवांस सिरोही में एक महिला अभ्यार्थी व दो गैंग सदस्य गिरफ्तार राजस्थान......

- Advertisement -
  • पेपर देने से पहले ₹15 लाख लिए थे एडवांस

  • सिरोही में एक महिला अभ्यार्थी व दो गैंग सदस्य गिरफ्तार

राजस्थान में रीट परीक्षा ,  एसआई परीक्षा के बाद 27 दिसंबर व 28 दिसंबर को आयोजित होने वाली ग्राम विकास अधिकारी की परीक्षा में भी पेपर लीक होने की बात सामने आई है। 

Img 20211228 170631

दरअसल ग्राम विकास अधिकारी का पेपर 27 दिसंबर को लीक हो चुका था , माफिया ने सिरोही के पवेलियन राजकीय बालिका सीनियर सेकेंडरी स्कूल सहित अन्य कई एग्जाम सेंटर के अभ्यार्थियों को व्हाट्सएप के जरिए पेपर भेजा था। 

बताया जा रहा है कि गिरफ्तार महिला अभ्यर्थी के पति से परीक्षा से पहले ₹15 लाख पेपर देने के एडवांस में लिए थे , एवं पुलिस ने ड्राइवर को गिरफ्तार करके पूछताछ शुरू कर दी है।

अनारदा थाना अधिकारी गीता सिंह ने बताया कि पेपर लीक करने की गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर दिया है एवं एक महिला अभ्यर्थी को भी इसके संबंध में पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। पेपर लीक करने की गैंग किए दोनों लोगों के नाम प्रकाश गोदारा व प्रवीण कुमार थे , एवं गिरफ्तार महिला अभ्यर्थी का नाम इंदु बाला बताया जा रहा है।

VDO की परीक्षा में नकल गिरोह की धरपकड़ के लिए एएसपी डॉ. देवेंद्र कुमार शर्मा, सिरोही डीएसपी पारस राम चौधरी ने टीमों का गठन किया था

वही अनादरा थानाधिकारी गीता सिंह भी गाड़ियों की तलाशी लेने का काम कर रही थी , तभी वहां पर एक काले रंग के की स्कॉर्पियो गाड़ी आती है, स्कॉर्पियो के ड्राइवर ने मौका पाकर वहां से भागना उचित समझा , लेकिन कुछ दूर भागने के बाद पुलिस ने उसका पीछा करके उसे पकड़ लिया पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर उसने अपना नाम प्रवीण बताया , गाड़ी की तलाशी में इन्दूबाला पुत्री राजेंद्र विश्नोई के एडमिट कार्ड फोटो कॉपी मिली।

 एवं प्रवीण ने बताया कि राजू ईराम, प्रकाश गोदारा और अशोक उर्फ प्रकाश ने परीक्षा का पेपर आउट करवाने के लिए रविवार रात मीरपुरा के पास एक ढाणी में रोका था। लेकिन काफी मेहनत के बावजूद भी रविवार रात तक बदमाश पेपर लीक नहीं कर पाए इसके बाद उन्होंने सोमवार सुबह सभी अभ्यार्थियों को अपने अपने सेंटर पर अलग अलग गाड़ियों से छोड़ दिया ‌‌, एवं उन्हें बताया गया कि उन्हें व्हाट्सएप द्वारा पेपर भेजा जाएगा। एवं उन्हें परीक्षा से ठीक पहले व्हाट्सएप द्वारा पेपर भेज दिया गया। प्रवीण ने यह भी बताया था कि उन्होंने अभ्यार्थियों से 15 लाख रुपए एडवांस में लिए थे।

पुलिस इस पूरी घटना के बाद तीन आरोपियों को पकड़कर अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है।

लेकिन बड़ा सवाल यह है कि राजस्थान में आयोजित होने वाली प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में पेपर लीक क्यों हो रही है आगामी दिनों में राजस्थान पुलिस का पेपर भी होने वाला है , वहीं पूर्व में आयोजित कई प्रतियोगी परीक्षाएं जैसे reet परीक्षा में बड़े घोटाले के बाद भी सीबीआई जांच ना होना , सरकार पर भी सवाल खड़े करती हैं? 

लेकिन हर परीक्षा में पेपर लीक होने के बावजूद भी सरकार अपनी नींद से अभी तक नहीं जाग रही है , आखिर सरकार कठोर कानून क्यों नहीं बना पाती है ? , क्या पेपर लीक करने वाले गिरोहों के पीछे राजनीतिक नेताओं का हाथ है ? , अगर सरकार कठोर कानून बन जाती है तो निश्चित ही नकल करवाने वाले सभी गिरोह में डर बैठ जाएगा ।

Rajasthan gram Sevak admit card 2021 , ग्राम सेवक एडमिट कार्ड

इन सभी सवालों के जवाब राजस्थान के बेरोजगार युवा मांगते हैं ‍,  मगर इन सभी सवालों का जवाब राजस्थान के युवाओं को फिलहाल नहीं मिलेगा ? जवाब में सरकारी यही कहेगी कि जिन अभ्यार्थियों के नंबर कम आए हैं इसकी वजह से वो पेपर लीक होने का ढोंग रच रहे हैं , ना जाने कितने लोगों के पास परीक्षा होने से पहले पेपर पहुंच जाते , ना जाने कितने लोग पेपर लीक हो करने की वजह से आज अफसर बने बैठे हैं ? , बात यह भी तय है कि पेपर लीक करने वाले सभी गिरोह भी गिरफ्तार नहीं होते हैं , क्योंकि कई ऐसे लोग भी होते हैं जो लंबे समय से पेपर लीक करते हैं और उन्हें पेपर लीक करने का लम्बा अनुभव होता है।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha