बरसात के दिनों में डेंगू से बचने का तरीका , इस तरह बच सकते हैं मच्छरों के काटने से

बरसात के दिनों में डेंगू से बचने का तरीका , इस तरह बच सकते हैं मच्छरों के काटने से बारिश......

- Advertisement -

बरसात के दिनों में डेंगू से बचने का तरीका , इस तरह बच सकते हैं मच्छरों के काटने से 

बारिश के दिनों में मच्छर का पनपना आम बात है , वैसे तो ग्रीष्म काल से ही तंग करना शुरू कर देते हैं , लेकिन मानसून आने पर मच्छर सिर्फ तंग नहीं करते , बल्कि गंभीर बीमारी से पीड़ित भी कर देते हैं।

बारिश के दिनों में मच्छर तेजी से पनपता है एवं इसके बाद मच्छर डंक मार कर डेंगू जैसी बीमारियों एक गर्त में डाल देता है , इसलिए जरूरी है कि डेंगू के लक्षण, डेंगू से बचाव के उपाय ‍‍, इत्यादि के तरीकों को जान लिया जाए ।

बरसात के दिनों में डेंगू से बचने का तरीका , इस तरह बच सकते हैं मच्छरों के काटने से

डेंगू के कारण , डेंगू का बुखार क्यों आता है , डेंगू क्यों होता है ? 

आमतौर पर यह बात तो सभी लोग जानते हैं कि डेंगू का बुखार ऐसे मशीन के काटने से होता है , जो डेंगू के वायरस का कैरियर को एवं एडिस मच्छर के प्रजाति के मच्छर से कैरियर होते हैं।

डेंगू 4 तरह का होता है एवं अगर कंट्रोल नहीं किया जाता है कि यह समय के साथ घातक रूप भी ले लेता है।

डेंगू के लक्षण 

डेंगू की शुरुआत आमतौर पर बुखार से होती है यह बुखार तेज होता है एवं इसके साथ ही पेट दर्द होता है , कई मरीजों को मल के साथ खून आने जैसे लक्षण भी दिखाई देते हैं , उल्टी होती है एवं रोगी को थकान भी होनी शुरू होती है।

डेंगू से बचाव , डेंगू से बचने का तरीका 

डेंगू से बचने का मुख्य तरीका यही है कि अपने घर या निवासी स्थल के आसपास साफ सफाई रखें एवं मच्छर के पनपने से रोका जाए , आसपास जहां भी पानी जमा हो रहा है उस जगह को जल्द से जल्द साफ कर देना चाहिए ताकि डेंगू के मच्छर ना पनप सके , क्योंकि डेंगू के मुंह से पानी में ही पनपते हैं।

यह भी पढ़ें व्हाट्सएप चैट के लिए अब मोबाइल नंबर की जरूरत नहीं पड़ेगी

हालांकि यह बीमारी ऐसी नहीं है कि एक व्यक्ति से दूसरे में फैले लेकिन संक्रमित मच्छरों की तादाद अधिक होने पर यह बिमारी भी तेजी के साथ फैल जाती है।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha