Jaychand kon tha जयचंद को गद्दारों क्यों कहते हैं, जयचंद किसे कहते हैं

Jaychand kon tha जयचंद को गद्दारों क्यों कहते हैं, जयचंद किसे कहते हैं जयचंद कौन था, जयचंद को गद्दार क्यों......

- Advertisement -

Jaychand kon tha जयचंद को गद्दारों क्यों कहते हैं, जयचंद किसे कहते हैं 

जयचंद कौन था, जयचंद को गद्दार क्यों कहा जाता है?, Jaychand Kon tha , Jaychand ko Gaddar kyo kahte hai

जयचंद का नाम तो आपने कई बार सुना होगा, अक्सर किसी भी गद्दार व्यक्ति को जयचंद की संज्ञा दी जाती है आज हम आपको बताने वाले हैं और हम जानने वाले हैं कि आखिर जयचंद को गद्दार क्यों कहते हैं , जयचंद की मृत्यु के इतने साल बाद भी उसे गद्दारों की संज्ञा देकर याद क्यों किया जाता हैं?

1170 से 1194 ई के बीच कन्नौज में राज करने वाले जयचंद की जयंती महाशिवरात्रि के दिन मनाई जाती है, कहा जाता है कि पृथ्वीराज ने जयचंद की बेटी संयोगिता का हरण कर दिया था एवं इसकी वजह से जयचंद नाराज होकर मोहम्मद गोरी को भारत में ले आया।

लेकिन जयचंद द्वारा मोहम्मद गौरी को भारत लाने की पुष्टि भी हमारे इतिहास में नहीं होती है, इसकी पुष्टि दरबारी कवि चंद्रवरदाई के काव्य पृथ्वीराज रासो के आधार पर होती है इसमें जयचंद को गद्दार माना गया है एवं आक्रांत मोहम्मद गोरी को आमंत्रित करने का कलंक लगाया गया है।

लेकिन जब इसके बारे में अन्य इतिहासकारों से बात की गई तो असिएंट इंडिया के लेखक आरसी मजूमदार कहते हैं कि

इस कथन में कोई सत्यता नहीं है कि महाराज जयचंद ने पृथ्वीराज पर आक्रमण करने के लिए मोहम्मद गौरी को आमंत्रित किया।

हिस्ट्री ऑफ इंडिया के लेखक जेसी पोवल कहते हैं कि

यह बात आधारहीन है कि महाराज जयचंद ने मोहम्मद गौरी को पृथ्वीराज पर आक्रमण करने के लिए आमंत्रित किया।

डॉ रामशंकर त्रिपाठी कहते हैं कि

जयचंद पर आरोप लगाना गलत है समकालीन मुसलमान इतिहासकार इस बात बात पर पूर्णतया मौन है की जयचंद ने ऐसा कोई निमंत्रण भेजा हो।

प्राचीन भारत के लेखक राजबली पांडे ने लिखा है कि

यह विश्वास की गोरी को जयचंद ने पृथ्वीराज के विरुद्ध निमंत्रण दिया था, ठीक नहीं जान पड़ता क्योंकि मुसलमान लेखक ने इसका कहीं भी जिक्र नहीं किया है।

.

Share This Article
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
राहुल गांधी ने शादी को लेके कही बड़ी बात, जानिए कब हैं राहुल गांधी की शादी रविंद्र सिंह भाटी और उम्मेदाराम बेनीवाल ने मौका देखकर बदल डाला बाड़मेर का समीकरण Happy Holi wishes message राजस्थान में मतदान संपन्न, 3 दिसंबर का प्रत्याशी और मतदाता कर रहे इंतजार 500 का नोट छापने में कितना खर्चा आता है?, 500 ka note banane ka kharcha